Class 10 लोकतांत्रिक राजनीति Chapter 5 लोकतंत्र के परिणाम Notes PDF in Hindi

प्रिय विद्यार्थियों आप सभी का स्वागत है आज हम आपको सत्र 2023-24 के लिए Class 10 लोकतांत्रिक राजनीति Chapter 5 लोकतंत्र के परिणाम Notes PDF in Hindi कक्षा 10 सामाजिक विज्ञान नोट्स हिंदी में उपलब्ध करा रहे हैं |Class 10 Samajik Vigyan Ke Notes PDF Hindi me Chapter 5 Lokatantr ke pariṇaama Notes PDF

Class 10 लोकतांत्रिक राजनीति Chapter 5 लोकतंत्र के परिणाम Notes PDF in Hindi

Class 10 Social Science [ Class 10 Social Science Civics (Political Science): Democratic Politics-II ] Loktantrik Rajniti Chapter 5 Lokatantr ke pariṇaama Notes In Hindi

class-10-loktantrik-rajniti-chapter-5 Outcomes of Democracy-notes-pdf-in-hindi

10 Class लोकतांत्रिक राजनीति Chapter 5 लोकतंत्र के परिणाम Notes in Hindi

TextbookNCERT
ClassClass 10
Subjectलोकतांत्रिक राजनीति Political Science
ChapterChapter 5
Chapter Nameलोकतंत्र के परिणाम Lokatantr ke pariṇaama
CategoryClass 10 राजनीति Notes in Hindi
MediumHindi

10 Class लोकतांत्रिक राजनीति Chapter 5 लोकतंत्र के परिणाम

अध्याय = 5
लोकतंत्र के परिणाम

Class 10 सामाजिक विज्ञान
नोट्स
लोकतंत्र के परिणाम

लोकतंत्र शासन

लोकतंत्र का अर्थ और परिभाषा:-


लोकतंत्र दो शब्दों से मिलकर बना है- लोक + तंत्र। लोक का अर्थ है जनता तथा तंत्र का अर्थ है शासन लोकतंत्र। एक ऐसी शासन व्यवस्था है, जिसमें जनता का, जनता के लिए और जनता द्वारा शासन किया जाता है। इसके अंतर्गत जनता अपनी इच्छानुसार निर्वाचन में आए हुए किसी भी दल को वोट देकर अपना प्रतिनिधि चुन सकती है।

आज विश्व के 100 से अधिक देश किसी ना किसी तरह की लोकतांत्रिक व्यवस्था चलाने का दावा करते हैं। इनका औपचारिक संविधान है। इनके यहाँ चुनाव होते हैं और राजनीतिक दल भी हैं। साथ ही वे अपने नागरिकों को कुछ बुनियादी अधिकारों की गारंटी भी देते है। लोकतंत्र में इस बात की पक्की व्यवस्था होती है कि फैसले कुछ कायदे कानूनों के अनुसार हों।

पारदर्शिता का अर्थ है:- खुलापन, सूचना की सरलता से प्राप्ति एवं उत्तरदायित्व। किसी भी लोकतांत्रिक शासन व्यवस्था में पारदर्शिता बुनियादी मूल्य है। सरकार हो या नौकरशाही, पार्टी हो या गैर सरकारी स्वयंसेवी संगठन सभी से आशा की जाती है कि वह लोगों के प्रति जवाबदेह व पारदर्शी हो। पारदर्शिता लाने के उद्देश्य से संसद ने 15 जून 2005 को सूचना के अधिकार कानून को पास किया लोकतंत्र शासन प्रणाली एक बेहतर शासन प्रणाली मानी जाती है, जिसके लिए अनेक कारण उत्तरदायी है जो निम्नलिखित हैं-

  1. लोकतंत्र नागरिकों में समानता के भाव को बढ़ावा देता है।
  2. लोकतंत्र व्यक्ति की गरिमा को बढ़ावा देता है।
  3. लोकतंत्र बेहतर फैसले लेने की ताकत देता है।
  4. लोकतंत्र टकरावों को टालने का तरीका प्रदान करता है।
  5. लोकतंत्र मे गलतियों को सुधारने की गुंजाइश होती है।
  6. लोकतंत्र ही बुनियादी संविधान होता है, जिसमें सरकार के निर्माण और चुनाव की क्रिया का वर्णन होता है।
  7. लोकतंत्र में नागरिकों को अधिकारों की सुरक्षा कि गारंटी होती है।
  8. लोकतंत्र में सभी सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक समस्याओं का समाधान किया जाता है।

उत्तरदायी सरकार:-

 यह लोकतंत्र ही है जो एक उत्तरदायी सरकार को संभव बनाता है। ऐसी सरकार कायदे-कानूनों को मानती है और लोगों के लिए जवाबदेह होती है। क्योंकि यह लोगों की सरकार है, लोगों के द्वारा बनाई गई है तथा लोगों के लिए है। लोगों द्वारा चुने गए प्रतिनिधि लोगों के प्रति उत्तरदायी है, अगर लोग उनके कामों से खुश नहीं है, तो लोग अगले आम चुनाव मे अपने नेता बदल सकते हैं। हर काम का उत्तर देना जनप्रतिनिधियों के लिए जरूरी है।

जिम्मेदार सरकार:-

 लोकतांत्रिक सरकार अधिक पारदर्शी होती है। जनता के पास यह जानने का अधिकार होता है कि फैसले किन तरीकों से लिए गए या सरकार ने कोई कार्य कैसे किया, इसलिए एक लोकतांत्रिक सरकार जनता के लिए उत्तरदायी होती है और जनता का ध्यान रखती है।

वैध सरकार:- 

यह वैध शासन व्यवस्था है। यह सुस्त हो सकती है, कम कार्यकुशल हो सकती है, उसमें भ्रष्टाचार हो सकता है, लेकिन यह लोगों की जरूरतों को अनदेखा नहीं कर सकती। इसी कारण पूरी दुनिया में लोकतांत्रिक सरकार के विचार के प्रति जबरदस्त समर्थन का भाव है। लोग अपने द्वारा चुने गए प्रतिनिधियों का शासन चाहते हैं।

लोकतंत्र के परिणाम notes in hindi | loktantra ke parinam class

Class 10 सामाजिक विज्ञान
नोट्स
लोकतंत्र के परिणाम

आर्थिक संवृद्धि और विकास

  • यदि आर्थिक समृद्धि की बात की जाए तो इसमें तानाशाही शासन लोकतंत्र के मामले में आगे दिखता है। 1950 से 2000 तक के पचास वर्षों के आँकड़ों का अध्ययन करने से पता चलता है कि तानाशाही शासन व्यवस्था में आर्थिक समृद्धि बेहतर हुई है। लेकिन कई लोकतांत्रिक देश हैं जो दुनिया की आर्थिक शक्तियों में गिने जाते हैं। इसलिए यह कहा जा सकता है कि सरकार का प्रारूप किसी देश की आर्थिक समृद्धि को निर्धारित करने वाला अकेला कारक नहीं है।
  • इसके अन्य कारक भी होते हैं, जैसे- जनसंख्या, वैश्विक स्थिति, अन्य देशों से सहयोग, आर्थिक प्राथमिकताएँ आदि। इसलिए हमें आर्थिक संवृद्धि के साथ अन्य सकारात्मक पहलुओं को भी देखना पड़ेगा इस दृष्टिकोण से लोकतंत्र हमेशा तानाशाही से बेहतर होता है।

असमानता और गरीबी में कमी:-

आर्थिक असमानता पूरी दुनिया में बढ़ रही है। भारत की जनसंख्या का एक बड़ा हिस्सा गरीब है। गरीबों और अमीरों की आय के बीच एक बहुत बड़ी खाई है। इस दिशा में निरंतर प्रयास हो रहे है कि आर्थिक असमानता और गरीबी दूर हो जाए, परन्तु इसके बावजूद लोकतंत्र के लिए यह अव्यवहारिक मुद्दा है।

+सामाजिक विविधताओं में सामंजस्य:-

हर देश सामाजिक विविधताओं से भरा हुआ है। इसलिए विभित्र वर्गों के बीच टकराव होना स्वाभाविक है। लोकतंत्र ऐसे तरीकों का विकास करने में मदद करता है जिनसे समाज के विभित्र वर्गों के बीच एक स्वस्थ प्रतिस्पर्धा हो सके। लोकतंत्र में लोग विविधता का सम्मान करना और मतभेदों के समाधान निकालना सीख जाते हैं। अधिकतर लोकतांत्रिक देशों में सामाजिक विविधता में तालमेल बना रहता है। सामाजिक विविधता गंभीर टकराव एवं हिंसक रूप नहीं लेती है। इसके कुछ अपवाद हो सकते हैं, जैसे- श्रीलंका, भारत को भी सामाजिक विविधताओं से परिपूर्ण देश कहा जाता है। जहाँ सभी धर्मों, समुदायों, और संस्कृति से सम्बंधित लोग निवास करते है और अनुच्छेद 15 में सभी को समानता का अधिकार प्रदान किया गया है।

नागरिकों की गरिमा और आजादी:-


लोकतंत्र ने नागरिकों को गरिमा और आजादी प्रदान की है। भारत में कई सामाजिक वर्ग हैं जिन्होंने वर्षों तक उत्पीड़न झेला है। लेकिन लोकतांत्रिक प्रक्रिया के फलस्वरूप इन वर्गों के लोग भी आज सामाजिक व्यवस्था में ऊपर उठ पाये हैं और अपने हक को प्राप्त किया है। उदाहरण- इतिहास में अपनायी गयी वर्ण व्यवस्था जिसमे समाज में लोगों को जन्म के आधार पर चार भागों में बांटा गया था। ब्राह्मण, वैश्य, क्षत्रिय, और शूद्र।

महिलाओं की समानता:-


लोकतंत्र के कारण ही यह संभव हो पाया है कि महिलाएँ समान अधिकारों के लिए संघर्ष कर पाईं। आज अधिकांश लोकतांत्रिक देशों की महिलाओं को समाज में बराबर का दर्जा मिला हुआ है। तानशाह देशों में आज भी महिलाओं को समान अधिकार नहीं प्राप्त हैं। समय के साथ- साथ नारी की दशा में बहुत बदलाव आया है। आज नारियों का समाज में महत्वपूर्ण स्थान है। इन्हे अनेक अधिकार प्रदान किये गए है। प्राचीन समय में नारियों से सम्बंधित अनेक प्रथाएँ थी। जिसका अब समाज में कोई स्थान नहीं है। जैसे- सती प्रथा, बाल विवाह आदि।

जातिगत असमानता:-


जातिगत असमानता भारत में जड़ जमाए बैठी है। लेकिन लोकतंत्र के कारण इसकी संख्या काफी कम है आज पिछड़ी जाति और अनुसूचित जाति के लोग भी हर पेशे में शामिल होने लगे हैं। वर्तमान समय में अन्य वर्गों के समान लाने के लिए आरक्षण की सुविधा प्रदान की गयी है।

पस लेने का निवेदन भी किया।

लोकतंत्र के परिणाम Notes || Class 10 Social Science (Political Science)

1. लोकतंत्र का क्या अर्थ हैं?

उत्तर– बहुमत का शासन

2. सरकार के बारे में जानकारी के लिए आपके पास कौन-कौनसे स्रोत हैं?

उत्तर– सरकार के बारे में जानकारी के हमारे पास ये स्रोत हैं – नागरिकों का सूचना का अधिकार, विपक्षी राजनैतिक दल, संसद की कार्यवाहियाँ तथा मीडिया।

3. शास की किस व्यवस्था में गलतियों को सुधारने की गुंजाइश होती है?

उत्तर– लोकतांत्रिक शासन व्यवस्था में

4. पारदर्शी प्रक्रिया से क्या अभिप्राय है?

उत्तर– तानाशाही, में व्यक्ति की गरिमा को उपेक्षित किया जाता है जबकि लोकतंत्र में नहीं।

5. लोकतांत्रिक राजनीति किसे कहते हैं?

उत्तर– लोकतांत्रिक राजनीति वह होती है जिसमें नियतकालीन चुनाव हों तथा नागरिकों को उनके अधिकारों की गारंटी हो।

6. लोकतंत्र का कोई एक गुण बताइये।

उत्तर– लोकतंत्र एक उत्तरदायी, जिम्मेवार तथा वैध शासन की व्यवस्था करता है।

7. लोकतंत्र की कोई विशेषताएँ लिखिए।

उत्तर– राजनीतिक दल, निर्वाचित प्रतिनिधि

8. किस कारण से अलग-अलग देशों में लोकतंत्र एक-दूसरे से अलग होते हैं?

उत्तर– प्रत्येक देश की अलग-अलग सामाजिक, सांस्कृतिक, आर्थिक और राजनीतिक पृष्ठभूमि के कारण अलग-अलग देशों में लोकतंत्र एक-दूसरे से अलग होते हैं।

9. सभी लोकतंत्रों में हमेशा अवसरों की असमानता रहने का कोई एक उदाहरण दें।

उत्तर– सभी लोकतंत्रों में गरीब वर्ग के समक्ष हमेशा अवसरों की असमानता बरकरार होती है।

10. आर्थिक संवृद्धि और विकास की दृष्टि से लोकतांत्रिक शासन का मूल्यांकन कीजिये।

उत्तर– आर्थिक संवृद्धि और विकास के मामले में विकसित देशों में तानाशाहियों का रिकार्ड अपेक्षाकृत बेहतर है। लेकिन तानाशाही वाले कम विकसित देशें और लोकतांत्रिक व्यवस्था वाले कम विकसित देशों के बीच का अन्तर नगण्य-सा है। इस मामले में लोकतांत्रिक देश तानाशाही वाले देशों से पिछड़े नहीं हैं।

11. तानाशाही का क्या अर्थ है? क्यों लोकतंत्र तानाशाही और अन्य व्यवस्थाओं से अच्छा है?

उत्तर– तानाशाही सरकार का वह रूप है जिसमें एक व्यक्ति अथवा दल संवैधानिक अथवा वैध सरकार का तख्त तानाशाही और अन्य व्यवस्थाओं से अच्छा है क्योंकि यह- नागरिकों में समानता को बढ़ावा देता है, यह व्यक्ति की गरिमा को बढ़ाता है, इससे फैसलों में बेहतरी आती है, यह टकरावों को टालने – सँभालने का तरीका देता है और इसमें गलतियों को सुधारने की गुंजाइश होती है।

NCERT Class 6 to 12 Notes in Hindi

प्रिय विद्यार्थियों आप सभी का स्वागत है आज हम आपको Class 10 Science Chapter 4 कार्बन एवं उसके यौगिक Notes PDF in Hindi कक्षा 10 विज्ञान नोट्स हिंदी में उपलब्ध करा रहे हैं |Class 10 Vigyan Ke Notes PDF

URL: https://my-notes.in/

Author: NCERT

Editor's Rating:
5

Pros

  • Best NCERT Notes in Hindi

Leave a Comment

Free Notes PDF | Quiz | Join टेलीग्राम
20seconds

Please wait...